पोकर एक युद्ध है

पोकर एक युद्ध है

time:2021-10-27 16:16:42 नेशनल रिटेल पॉलिसी से 4 साल में पैदा होंगी 30 लाख नौकरियां : सीआईआई Views:4591

ऑनलाइन बेटिंग प्लेटफॉर्म रैंकिंग पोकर एक युद्ध है betway फुटबॉल नियम,fun88 फिलीपींस,lovebet 49एस का परिणाम आज,lovebet बोनस का उपयोग कैसे करें,lovebet टीडीटी,3 रील स्लॉट एपीके डाउनलोड,बैकरेट विश्लेषण उपकरण,बैकारेट मूल,पांच बेसबॉल प्लेऑफ़ में सर्वश्रेष्ठ,बुकमेकर मित्र रेफ़रल बोनस,कैसीनो एल'अलियांका डेल पोब्लेनौ,शतरंज और कार्ड जो पैसे के बदले बदले जा सकते हैं,क्रिकेट पुस्तक विचार,क्रिकेट यार्ड,यूरोपीय सट्टेबाजों का भुगतान अनुपात,फुटबॉल सट्टेबाजी इतिहास लॉटरी नंबर,जी पोकर गेम,खुश किसान हेलसिंकी,मैं अपना लवबेट यूज़रनेम भूल गया हूँ,जैकबॉक्स गेम स्विच,ला लीगा कैलेंडर स्टैंडिंग,लाइव कैसीनो जाम्बिया,लॉटरी खेला दिखैये,लूडो जेनिथ APK,ऑनलाइन नकद रूले खेल,ऑनलाइन गेम रैंकिंग,ऑनलाइन स्लॉट पिछड़ रहा है,पोकर 007,पोकर विकिपीडिया,रूले मलयालम में अर्थ,रम्मी क्लब pkg 9,रश बे फिशिंग,स्लॉट फ्री ऐप,खेल ओलंपिक 2021,तीन पत्ती मज़ा,नवीनतम बोर्ड गेम,वर्चुअल क्रिकेट चैंपियनशिप,वाइल्डज़ डेमो मोडस,ipl मैच,करीना नई बेबी,क्रिकेट लाइव डाउनलोड,छात्र लॉटरी संवाद,पांच पॉइंट 11 चयनित 5,बरसात मूवी बॉबी देओल की,रमी रंधावा प्रिंस रंधावा,स्टेटस धाकड़, .नेशनल रिटेल पॉलिसी से 4 साल में पैदा होंगी 30 लाख नौकरियां : सीआईआई

देश के संगठित रिटेल सेक्‍टर में पांच करोड़ लोगों को रोजगार मिला हुआ है.
नई दिल्ली : एक मजबूत नेशनल रिटेल पॉलिसी सेक्‍टर में जान फूंक सकती है. इससे देश में 2024 तक 30 लाख अतिरिक्त रोजगार के अवसर पैदा होंगे. उद्योग संगठन सीआईआई की रिटेल पर नेशनल कमेटी के चेयरमैन शाश्‍वत गोयनका ने यह बात कही.

सीआईआई इंडिया रिटेल समिट-2020 को संबोधित करते हुए गोयनका ने कहा कि नेशनल रिटेल पॉलिसी से यह क्षेत्र उबर सकेगा. आने वाले वर्षों में जोरदार ग्रोथ दर्ज कर पाएगा. गोयनका आरपी-संजीव गोयनका समूह के प्रमुख (रिटेल एंड एफएमसीजी) भी हैं. उद्योग के अनुमान के अनुसार, देश के संगठित रिटेल सेक्‍टर में पांच करोड़ लोगों को रोजगार मिला हुआ है.

इसे भी पढ़ें : दिवाली से पहले बैंक कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, 15% बढ़ेगा वेतन

शाश्‍वत बोले, ''आगे चलकर जब उद्योग अपने निचले स्तर से उबरेगा. ऐसे समय में सुधार की प्रक्रिया को तेज करने के लिए नए और उभरते मॉडल पर चर्चा करने की जरूरत होगी. उद्योग अब भी मांग में कमी की वजह से हुए नुकसान से उबर नहीं पाया है. ऐसे में उपभोक्ताओं का भरोसा कायम करने के लिए सक्रिय कदमों की जरूरत होगी.''

उन्होंने कहा कि इस क्षेत्र के विभिन्न फॉर्मेट में चुनौतियों और अड़चनों को दूर करने के लिए सीआईआई के तहत खुदरा सेक्‍टर के लोगों का मानना है कि सरकार को एक मजबूत रिटेल पॉलिसी लानी चाहिए.

इसे भी पढ़ें : अगले साल 87% कंपनियां बढ़ाएंगी वेतन : सर्वे

गोयनका बोले, ''आज पहले की तुलना में कहीं अधिक नेशनल रिटेल पॉलिसी के साथ अनुकूल वातावरण पैदा करने की जरूरत है. सरकार मजबूत रिटेल पॉलिसी लाकर सेक्‍टर की ग्रोथ बढ़ा सकती है. इससे 2024 तक 30 लाख अतिरिक्त रोजगार के अवसर पैदा हो सकते हैं. इसके अलावा इससे जुड़े क्षेत्रों में रोजगार के अप्रत्यक्ष अवसर भी पैदा किए जा सकते हैं.''

उन्होंने बताया कि शोध से पता चलता है कि रिटेल से जुड़े बुनियादी इंफ्रास्‍ट्रक्‍चर जैसे वेयरहाउस और कोल्‍ड स्‍टोरेज इत्‍याद‍ि में सिर्फ 6,500 करोड़ रुपये के निवेश से दो से तीन लाख अतिरिक्त रोजगार पैदा किए जा सकते हैं. इसी कार्यक्रम में उद्योग एवं आंतरिक व्यापार संवर्द्धन विभाग (डीपीआईआईटी) के संयुक्त सचिव अनिल अग्रवाल ने बताया कि सरकार रिटेल पॉलिसी पर काम कर रही है.

हिंदी में पर्सनल फाइनेंस और शेयर बाजार के नियमित अपडेट्स के लिए लाइक करें हमारा फेसबुक पेज. इस पेज को लाइक करने के लिए यहां क्लिक करें.

टॉपिक

नेशनल र‍िटेल पॉलिसीशाश्‍वत गोयनका30 लाख नौकरीरोजगार के अवसरसीआईआई

ETPrime stories of the day

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?
Recent hit

After a robust rally, pharma stocks feel under the weather. But do they make a case for value buy?

9 mins read
Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.
Electric vehicles

Can Hero Electric keep going as Ather, Ola rev up e-scooters? One puzzle Naveen Munjal is solving.

11 mins read
Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed
Environment

Survival of the richest: why investment in conservation is horribly skewed

6 mins read

रोजगार संबंधी सेवाएं देने वाली वेबसाइट नौकरी डॉट कॉम के 'हायरिंग आउटलुक सर्वे' के अनुसार, नियोक्ता नए साल को लेकर आशावान लग रहे हैं.कीमतों में यह बढ़ोतरी विभिन्‍न मॉडलों में अलग-अलग होगी. यह वास्‍तव में कितनी होगी, इस बारे में जल्‍द ही डीलरों को बताया जाएगा.नए साल से महंगी हो जाएंगी ऑडी की कारें, जानिए कितने बढ़ेंगे दाम

इसके पहले मारुति सुजुकी, फोर्ड, महिंद्रा एंड महिंद्रा, रेनॉ और होंंडा अपनी कारों के दाम बढ़ाने का एलान कर चुकी हैं.रोजगार संबंधी सेवाएं देने वाली वेबसाइट नौकरी डॉट कॉम के 'हायरिंग आउटलुक सर्वे' के अनुसार, नियोक्ता नए साल को लेकर आशावान लग रहे हैं.टीसीएस ने छह महीनों में दूसरी बढ़ाई सैलरी, जानिए क्या है वजह?

कोरोना की महामारी के चलते कई लोगों की नौकरी छूट गई है. कई लोगों की सैलरी घट गई है. कइयों के रोजगार ठप हो गए हैं. नौकरियों के मौकों में बड़ी कमी आई है. नई जॉब के विकल्‍प बेहद सीमित हैं. ऐसे में यह समय अपने कम्‍फर्ट जोन से निकलकर घर में कमाई के रास्‍ते खोजने का है. इसकी शुरुआत आप खुद से यह पूछ कर सकते हैं कि आप क्‍या कर सकते हैं? कैसे कर सकते हैं? कहां कर सकते हैं? कितना कमा सकते हैं? हम आपको घर बैठे कमाई के कुछ विकल्प बता रहे हैं.जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.सिर्फ 10% कर्मचारी ऑफिस लौटे : रिपोर्ट

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
यूवेगर स्पोर्ट्सबुक

2020 में कई बड़े स्‍मार्टफोन ट्रेंड देखने को मिले हैं. इनमें 100x जूम, 65 वॉट चार्जिंग, लिडार कैमरा, डॉल्‍बी विजन वीडियो, 7000 एमएएच बैटरी के अलावा कई और शामिल हैं. क्‍या आप जानना चाहेंगे कि भारत में इन फीचरों की शुरुआत किसने की है और ऐसे स्‍मार्टफोन ब्रांडों की कीमत कितनी है? यहां हम आपको इनके बारे में बता रहे हैं.

जैकबॉक्स गेम मुफ्त डाउनलोड करें

सर्वे में 20 से ज्‍यादा इंडस्‍ट्रीज की 1,200 कंपनियों की प्रतिक्रिया ली गई. इनमें से 1,000 ने इस साल वेतनवृद्धि के लिए कहा है.

पोकर इमोजी

सरकार ने शुक्रवार को ओला और उबर जैसी कैब एग्रीगेटर कंपनियों के ऊपर मांग बढ़ने पर किराए बढ़ाने की एक सीमा लगा दी है.

ताज लॉटरी

नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.

फुटबॉल 98

डिजिटल इकनॉमी में नए टैलेंट की जरूरत होगी. आइए, यहां टॉप रिक्रूटमेंट फर्मों से उन स्किल्‍स के बारे में जानते हैं जो सबसे ज्‍यादा डिमांड में हैं.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी