यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल मेस्सी

यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल मेस्सी

time:2021-10-27 14:21:04 सरकार ने विनिर्माण स्रोत देश की गलत जानकारी देने को लेकर ई-कॉमर्स कंपनियों को 202 नोटिस दिये Views:4591

स्टेटस भजन यूईएफए चैंपियंस लीग फुटबॉल मेस्सी betway प्रमोशन,लियोवेगास एक्सपेक्ट,lovebet 992,lovebet केवाईसी सत्यापन,lovebet वी/सी,एक कैसीनो खेल,बैकरेट कैसीनो डिजिटल कौशल,बैकरेट रोड सिंगल नेट डाउनलोड,bet365 betclic y lovebet,नकद असली पैसा रूले,कैसीनो खोज लाइव,शतरंज एक्स रे,क्रिकेट विशेषज्ञ,दिन मशीनरी कैसीनो एनएसडब्ल्यूई,यूरोपीय कप मकाऊ सेट,फुटबॉल ग्राउंड विश्लेषण सॉफ्टवेयर,गेमिंग क्रेडिट प्लेटफॉर्म,क्या आपने ऑनलाइन बैकरेट खेला है?,इंडिबेट विएन,जैकपॉट खेल आज,लाइव बैकरेट ऑनलाइन बेटिंग,लाइव रूले केन्या,लॉटरी उद्धरण अजीब,मिडवीक जैकपॉट बेटिका गेम्स,ऑनलाइन कैसीनो Knossi,ऑनलाइन लॉटरी बेटिंग स्टेशन,ऑनलाइन स्लॉट za,पोकर औ कैसीनो टिप्पणी जौर,mpl . में पूल रम्मी नियम,रॉयल कैनिन,रमी मोबाइल ट्रैकर,s'incribe सुर लवबेट,स्लॉट मंदिर,स्पोर्ट्स एक्स लीग,तीन पत्ती वाला गेम,द नॉइज़ क्रिकेट बुक,w.rummy 5a.com,विश्व कप बाधाओं का विश्लेषण,आईपीएल ऑरेंज कैप,कैटरीना हाइट,खेलो पर जुआ price,जोकर धुन छत्तीसगढ़ी,फुटबॉल खेळाची माहिती,बेटा का गीत,लाटरी संबाद मॉर्निंग,स्पीड टाइम्स लॉटरी, .सरकार ने विनिर्माण स्रोत देश की गलत जानकारी देने को लेकर ई-कॉमर्स कंपनियों को 202 नोटिस दिये

नयी दिल्ली, 26 अक्टूबर (भाषा) केंद्र सरकार ने मंगलवार को कहा कि उसने ई-कॉमर्स कंपनियों की वेबसाइट पर सूचीबद्ध उत्पादों के विनिर्माण के स्रोत देश के बारे में गलत जानकारी देने को लेकर पिछले एक साल में उन्हें 202 नोटिस जारी किये हैं।

दिये गये अधिकतर नोटिस इलेक्ट्रॉनिक उपकरणों से संबंधित हैं। उसके बाद कपड़ा और घरों में उपयोग होने वाले उत्पादों का स्थान है।

कुल 217 नोटिसों में से 202 नोटिस विनिर्माण स्रोत देश से जुड़े नियमों के उल्लंघन को लेकर दिये गये। जबकि शेष 15 नोटिस मियाद-समाप्ति की तारीख, विनिर्माता / आयातक के पते की गलत जानकारी, अधिकतम खुदरा मूल्य (एमआरपी) से ज्यादा वसूलना, गैर-मानक इकाइयां और शुद्ध मात्रा में गड़बड़ी को लेकर दिये गये।

हालांकि उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय ने उन ई-कॉमर्स कंपनियों का नाम नहीं बताया, जिन्हें नोटिस दिये गये हैं।

यह पूछे जाने पर कि आखिर सरकार नियमों का उल्लंघन करने वाली कंपनियों के नाम क्यों नहीं सार्वजनिक कर रही, उपभोक्ता मामलों की सचिव लीना नंदन ने कहा, ‘‘हम इसके जरिये कंपनियों और उपभोक्ताओं दोनों को सतर्क करने का प्रयास कर रहे हैं।’’

उन्होंने संवाददाता सम्मेलन में कहा कि कंपनियों को इस बात की जानकारी होनी चाहिए कि उपभोक्ताओं की शिकायतों के समाधान के संदर्भ में वह सब किया जाता है, जो कानूनी रूप से बनाए रखने योग्य है। और उपभोक्ताओं को अपने अधिकारों को जानने की जरूरत है।

केंद्रीय उपभोक्ता संरक्षण प्राधिकरण (सीसीपीए) की मुख्य आयुक्त और मंत्रालय में अतिरिक्त सचिव निधि खरे ने कहा, ‘‘लगभग 76 कंपनियों ने अपनी गलतियों को स्वीकार किया और उनसे नियमों के उल्लंघन को लेकर 42,85,400 रुपये वसूले गये।’’

(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)
(This story has not been edited by economictimes.com and is auto–generated from a syndicated feed we subscribe to.)

ETPrime stories of the day

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry
Recent hit

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry

11 mins read
Skill or chance? The USD7 billion question that can make or break India’s online gaming industry.
Policy and regulations

Skill or chance? The USD7 billion question that can make or break India’s online gaming industry.

13 mins read
Partying the Nolo way: New-age brands are offering choices beyond Pepsi and Coca-Cola
FMCG

Partying the Nolo way: New-age brands are offering choices beyond Pepsi and Coca-Cola

10 mins read

महामारी से पहले की तुलना में मजदूरी 450-500 रुपये से बढ़कर 550-600 रुपये प्रति दिन हो गई है. वहीं, मजदूरों की उपलब्‍धता 70-75 फीसदी घटी है.नयी दिल्ली, 26 अक्टूबर (भाषा) सैमसंग इंडिया इलेक्ट्रॉनिक्स का बीते वित्त वर्ष 2020-21 का शुद्ध लाभ 39 प्रतिशत बढ़कर 4,040.9 करोड़ रुपये पर पहुंच गया। हालांकि, वित्त वर्ष के दौरान कंपनी की परिचालन आय 75,886.3 करोड़ रुपये पर स्थिर रही। इलेक्ट्रॉनिक्स क्षेत्र की दिग्गज कंपनी के भारत में कारोबार में मोबाइल फोन खंड का हिस्सा सबसे अधिक है। इससे पिछले वित्त वर्ष 2019-20 में कंपनी का शुद्ध लाभ 2,902.6 करोड़ रुपये और परिचालन आय 75,451.5 करोड़ रुपये रही थी। बाजार और कंपनी के बारे में सूचना देने वाली कंपनी टॉफलर ने कंपनी पंजीयक के पास जमा कराए गए दस्तावेजोंदिवाली से पहले बैंक कर्मचारियों के लिए खुशखबरी, 15% बढ़ेगा वेतन

नौकरी जॉबस्पीक्स इंडेक्स की ताजा रिपोर्ट के मुताबिक, डिजिटल बदलाव की लहर में सूचना प्रौद्योगिकी-सॉफ्टवेयर क्षेत्र लगातार इससे बचा हुआ है.पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.इन तरीकों से आप घर बैठे कमा सकते हैं पैसा

दिग्गज आईटी कंपनी टाटा कंसल्टेंसी सर्विसेज ने कोरोना वायरस महामारी के दौरान ग्रोथ देने के चलते साल 2021-22 के लिए कर्मचारियों की सैरली बढ़ाई है.धनतेरस स्टोर (Amazon Dhanteras Store) बेहतर मूल्य और सुविधा के साथ उभरते हुए छोटे और मझोले उपक्रमों के हजारों उत्पादों के सबसे बड़े सेलेक्शन की पेशकश भी करेगा। घर के लिए त्योहार की सजावट से जुड़े उत्पादों से लेकर इथनिक वियर तक ​की खोज कर सकते हैं।अगले 3-6 महीने में कोविड से पहले के स्तर पर पहुंच जाएगी कंपनियों की भर्ती : सर्वे

पूरा पाठ विस्तारित करें
संबंधित लेख
कैसीनो नौकरी

भारतीय शहरों में करीब 15 फीसदी कंपनियों की फरवरी से अप्रैल 2021 के बीच फ्रेशर्स को भर्ती करने की योजना है. लर्निंग सॉल्‍यूशंस फर्म टीम लीज एडटेक के सर्वे से इसका पता चलता है. टीमलीज एडटेक के सीईओ शांतनु रूज ने कहा कि कोरोना की महामारी के बावजूद कंपनियों के एजेंडे में फ्रेशर्स की हायरिंग है.

सी कैसीनो ऑनलाइन

अगले साल मई तक आईटी, आईटीईएस और बीपीओ सेक्‍टर में कर्मचारियों के ऑफिस वापसी का लेवल कोरोना से पहले के स्‍तर के 50 फीसदी तक पहुंच सकता है.

खेल ऑनलाइन शॉपिंग

जब संस्‍थान में किसी कर्मचारी को नौकरी छोड़ने के लिए कहा जाता है तो वे आमतौर पर चौंक जाते हैं. लेकिन, कई मामलों में इसके संकेत पहले से मिलने लगते हैं. बात सिर्फ इतनी होती है कि कर्मचारी इन संकेतों का मतलब समझकर सुधार की दिशा में कदम नहीं उठा पाते हैं. आइए, यहां ऐसे ही कुछ संकेतों के बारे में जानते हैं.

स्पोर्ट्स वॉच

नयी दिल्ली, 26 अक्टूबर (भाषा) सार्वजनिक क्षेत्र की जलविद्युत कंपनी एनएचपीसी ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए सरकार को 249.44 करोड़ रुपये का अंतिम लाभांश दिया है। बिजली मंत्रालय ने मंगलवार को बयान में यह जानकारी दी। बयान के अनुसार, एनएचपीसी के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक एक के सिंह ने 26 अक्टूबर को केंद्रीय बिजली, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री को इस बारे में भुगतान सूचना सौंपी। इस मौके पर बिजली सचिव आलोक कुमार भी मौजूद थे। इसके अलावा पांच मार्च, 2021 को कंपनी ने 890.85 करोड़ रुपये का अंतरिम लाभांश दिया था। इस तरह बीते वित्त वर्ष के

फ़ुटबॉल ऑड्स

पिछले साल से अब तक बड़े उतार-चढ़ाव हुए हैं. लोगों ने कोरोना की महामारी के कहर को देखा और अब जिंदगी को पटरी पर लौटते देख रहे हैं. शायद ही यह दौर भुलाए भूलेगा. हालांकि, इससे कई सबक भी मिले हैं. ये करियर में आगे बढ़ने में मदद कर सकते हैं. आइए, यहां उनके बारे में जानते हैं.

संबंधित जानकारी
गरम जानकारी