फुटबाल का खेल

Publishing time:2021-10-27 15:02:16

ऐसी बरसात में फुटबाल का खेल 188bet पुराना संस्करण,casumo निकासी समय,lovebet 2 गोल ऊपर,lovebet फुटबॉल भविष्यवाणी,lovebet एक दोस्त को देखें भारत,lovebetा पुल टिकिशो,बैकारेट 3 तस्वीर,बैकारेट चाकू की समीक्षा,एक महिला होने के नाते,बीएच क्रिकेट एडिट कोर्स,कैसीनो फ़ॉन्ट,सीएच स्पोर्ट्स लेस ड्यूक्स आल्प्स,क्रिकेट 365,क्रिकेट स्कोर बुक एक्सेल प्रारूप,ई-स्पोर्ट्स एलईडी लाइट es45 किट,फुटबॉल 2021,फ़ुटबॉल वेब गेम Daquan,ग्वांगडोंग हैप्पी 10,बैकारेट हेज बेटिंग कैसे खेलें,क्या indibet सुरक्षित है,जंगल रम्मी साइन इन,लाइव कैसीनो क्रोनोस,लॉटरी परिभाषा,लूडो किंग ऑनलाइन,ओडिबेट्स जैकपॉट बोनस,ऑनलाइन गेम इंजन,ऑनलाइन रियल मनी कार्ड गेम,पारिमैच निकासी नियम,पोकर संभावना,अमीर फुटबॉलर,रम्मी १३,रम्मीकल्चर इंस्टाल,स्लॉट मशीन जोना जियाला,स्पोर्ट्स फंतासी ऐप,स्टैंड-अलोन Apple स्लॉट,सबसे अच्छा बैकारेट फोरम,यूईएफए चैंपियंस लीग लाइव,कौन सा जुआ मंच अच्छा है,21 बजे sign in,ऑनलाइन पैसे बनाएं hindi,क्रिकेट और संगम,गोवा लाइव,तीन पत्ती रियल कैश गेम paytm,बकरी धर्मशाला,बैकारेट जीतने वाली चीट्स,स्टेटस ईद मुबारक, .कारें होंगी महंगी, जानिए कितनी बढ़ेंगी कीमतें

http://img95.699pic.com/photo/40037/1647.jpg_wh300.jpg?67016

कारें होंगी महंगी, जानिए कितनी बढ़ेंगी कीमतें

टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियां पहले ही अप्रैल से दाम बढ़ाने के संकेत दे चुकी हैं.
कार के दाम जल्‍द और बढ़ सकते हैं. इनमें 2-3 फीसदी की बढ़ोतरी हो सकती है. कार बनाने वाली कंपनियां इस बारे में विचार कर रही हैं. कच्‍चे माल की लगातार बढ़ती कीमतों और ऑटो पार्ट्स की किल्‍लत के चलते वे इसके लिए मजबूर हैं. अगर ऐसा हुआ तो हाल की कुछ तिमाहियों में यह लगातार तीसरी बार होगा जब गाड़‍ियों के दाम बढ़ेंगे. पिछली बढ़ोतरी के बाद कारें करीब 4-6 फीसदी और टू-व्‍हीलर्स 8-10 फीसदी महंगे हो चुके हैं.

पिछले तीन महीनों में वाहनों को बनाने में लगने वाले कच्‍चे माल की कीमतें बढ़ी हैं. इससे वाहनों के दाम 10-15 फीसदी तक बढ़े हैं. इन्‍हें बनाने में स्‍टील, एलुमिनियम, रबर से लेकर कीमती धातुओं तक का इस्‍तेमाल होता है. पॉलीमर से लेकर रबर तक के भाव 10-60 फीसदी चढ़े हैं. सेमीकंडक्‍टर को लेकर डिमांड और सप्‍लाई में विसंगति के कारण भी इनपुस्‍ट कॉस्‍ट बढ़ी है.

इसे भी पढ़ें : टर्म इंश्‍योरेंस पॉलिसी हो सकती है महंगी, यह है वजह

तीन कंपनियों ने बताया कि चिप मैन्‍यूफैक्‍चरर्स को भारतीय ऑटो ओईएम (ओरिजनल इक्विपमेंट मैन्‍यूफैक्‍चरर्स) से कीमत बढ़ाने के अनुरोध मिलने लगे हैं. सप्लाई की शॉर्टैज और मांग बढ़ने से 2021 में चिप की कीमतें 4-6 फीसदी तक बढ़ सकती हैं. वहीं, सप्‍लाई की किल्‍लत अगले 2-3 तिमाहियों तक बनी रह सकती है.

टाटा मोटर्स और महिंद्रा एंड महिंद्रा जैसी कंपनियां पहले ही अप्रैल से दाम बढ़ाने के संकेत दे चुकी हैं. इन कंपनियों ने पिछले 6 महीनों में दो बार दाम बढ़ाए हैं. आयशर मोटर के स्‍वामित्‍व वाली रॉयल एनफील्‍ड ने भी कीमतों में 3-5 फीसदी बढ़ोतरी का अंदेशा जताया है. जबकि 2021 की शुरुआत में पहले ही यह इतनी बढ़ोतरी कर चुकी है.

इसे भी पढ़ें : फास्‍टैग नहीं लिया है? परेशान न हों, कुछ ही मिनट में गाड़ी में लग जाएगा

क्रेडिट सुईस के अनुसार, यह सही है कि मारुति सुजुकी ने प्रतिद्वंद्वी कंपनियों के मुकाबले सबसे बाद में दाम बढ़ाने का एलान किया. लेकिन, 18 जनवरी से प्रभावी सभी मॉडलों पर 34,000 रुपये तक की बढ़ोतरी 2.7 फीसदी के बराबर थी. यह पिछले पांच साल में कंपनी की ओर से की गई सर्वाधिक बढ़त है.

महिंद्रा एंड महिंद्रा के ईडी राजेश जेजुरिकर ने आगाह किया था कि अगर इनपुट कॉस्‍ट में नरमी नहीं आई तो वित्‍त वर्ष 2021-22 की पहली तिमाही में मजबूरन दाम बढ़ाने पड़ेंगे. रॉयल एनफील्‍ड के एमडी विनोद दसारी ने कहा कि कंपनी जनवरी में पहले ही दाम बढ़ा चुकी है. अगले वित्‍त वर्ष से दोबारा वह कीमतों में करीब 3-5 फीसदी बढ़ोतरी के बारे में सोच रही है.

सबसे बड़ी समस्‍या स्‍टील की कीमतों में जोरदार तेजी है. पिछले चार महीनों में इसके दाम 36,000 रुपये प्रति टन से उलछकर 58,000 रुपये प्रति टन पर पहुंच गए हैं. वहीं, पेट्रोल-डीजल, हाईवे टोल और टायर के दाम बढ़ने से लॉजिस्टिक्‍स और सप्‍लाई की कॉस्‍ट बढ़ी है.

पैसे कमाने, बचाने और बढ़ाने के साथ निवेश के मौकों के बारे में जानकारी पाने के लिए हमारे फेसबुक पेज पर जाएं. फेसबुक पेज पर जाने के लिए यहां क्‍ल‍िक करें

टॉपिक

कार की कीमतेंबढ़ेंगे दामइनपुट कॉस्‍टकच्‍चा मालऑटो पार्ट्स

ETPrime stories of the day

Partying the Nolo way: New-age brands are offering choices beyond Pepsi and Coca-Cola
FMCG

Partying the Nolo way: New-age brands are offering choices beyond Pepsi and Coca-Cola

10 mins read
As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry
Recent hit

As airlines inch back to normalcy, vacant middle seats are a cause of worry

11 mins read
Skill or chance? The USD7 billion question that can make or break India’s online gaming industry.
Policy and regulations

Skill or chance? The USD7 billion question that can make or break India’s online gaming industry.

12 mins read
कारें होंगी महंगी, जानिए कितनी बढ़ेंगी कीमतें

पिछले तीन महीनों में वाहनों को बनाने में लगने वाले कच्‍चे माल की कीमतें बढ़ी हैं. इससे वाहनों के दाम 10-15 फीसदी तक बढ़े हैं.पिछले तीन महीनों में वाहनों को बनाने में लगने वाले कच्‍चे माल की कीमतें बढ़ी हैं. इससे वाहनों के दाम 10-15 फीसदी तक बढ़े हैं.टर्म इंश्‍योरेंस पॉलिसी हो सकती है महंगी, यह है वजह

पिछले तीन महीनों में वाहनों को बनाने में लगने वाले कच्‍चे माल की कीमतें बढ़ी हैं. इससे वाहनों के दाम 10-15 फीसदी तक बढ़े हैं.नयी दिल्ली, 26 अक्टूबर (भाषा) अंतरराष्ट्रीय मुद्रा कोष (आईएमएफ) द्वारा भारत के संभावित वृद्धि दर के अनुमान को संशोधित कर छह प्रतिशत करना ‘अत्यधिक कम अनुमान’ है। 15वें वित्त आयोग के चेयरमैन एन के सिंह ने मंगलवार को यह बात कही। आईएमएफ ने कोरोना वायरस महामारी की वजह से भारत की वृद्धि की संभावना को नीचे किया है। सिंह ने अध्ययन एवं औद्योगिक विकास संस्थान (आईएसआईडी) द्वारा ‘विकास के लिए वित्तपोषण’ विषय पर आयोजित ‘ऑनलाइन’ परिचर्चा को संबोधित करते हुए कहा कि यह सुनिश्चित करने की जरूरत है कि जो लोग अभी गरीबी से बचे हुए हैं, वे महामारीबीते वित्त वर्ष में सैमसंग इंडिया का शुद्ध लाभ 39 प्रतिशत बढ़ा, आय स्थिर

नयी दिल्ली, 26 अक्टूबर (भाषा) सार्वजनिक क्षेत्र के यूनियन बैंक ऑफ इंडिया ने अपने आवास ऋण पर ब्याज दरों को घटाकर 6.40 प्रतिशत के सर्वकालिक निचले स्तर पर ला दिया है। नयी दरें 27 अक्टूबर से लागू होंगी। बैंक ने बयान में कहा कि उसके आवास ऋण पर ब्याज दर अब 6.40 प्रतिशत से शुरू होगी। यह बैंक के लिए अबतक की सबसे निचली आवास ऋण दर है। बैंक ने कहा कि नये ऋण के लिए आवेदन करने वाले ग्राहकों के अलावा अपने मौजूदा कर्ज को स्थानांतरित करने वाले उपभोक्ताओं को भी इसका लाभ मिलेगा।नयी दिल्ली, 26 अक्टूबर (भाषा) सार्वजनिक क्षेत्र की जलविद्युत कंपनी एनएचपीसी ने वित्त वर्ष 2020-21 के लिए सरकार को 249.44 करोड़ रुपये का अंतिम लाभांश दिया है। बिजली मंत्रालय ने मंगलवार को बयान में यह जानकारी दी। बयान के अनुसार, एनएचपीसी के चेयरमैन एवं प्रबंध निदेशक एक के सिंह ने 26 अक्टूबर को केंद्रीय बिजली, नवीन और नवीकरणीय ऊर्जा मंत्री को इस बारे में भुगतान सूचना सौंपी। इस मौके पर बिजली सचिव आलोक कुमार भी मौजूद थे। इसके अलावा पांच मार्च, 2021 को कंपनी ने 890.85 करोड़ रुपये का अंतरिम लाभांश दिया था। इस तरह बीते वित्त वर्ष केटर्म इंश्‍योरेंस पॉलिसी हो सकती है महंगी, यह है वजह

स्रोत: Nanfang Daily Online    Editor in charge: hit


स्पोर्ट्स साइकिल
पोकर 021
लॉटरी गा
fun88 वेब
कैसीनो हाँ
स्लॉट मशीन यूट्यूब 2020
मैं फ़ुटबॉल खाता कैसे खोल सकता हूँ?
जैकपॉट खेल विश्लेषण
बेताब घाटी
गेमिंग प्रचार
स्टेटस शायरी डाउनलोड
दोस्तों के साथ ऑनलाइन यूनो गेम फ्री
बी फुटबॉल खिलाड़ी
आईपीएल विजेता 2021
खेलो पर जुआ wikipedia
तीन पत्ती वेगो
स्लॉट मशीन का उपयोग
रम्मी 666 डाउनलोड
आज का फुटबॉल खेल
सुकरात कोट्स
ऑनलाइन नकद शतरंज और कार्ड मंच
लाइव कैसीनो लाठी
फिशिंग रश क्रीक लेक ओहियो
फ स्टेटस
फुटबॉल 6 यार्ड बॉक्स
lovebetा युतीश
शतरंज यू dvoje